athletes के लिए ओलंपिक किट तैयार करना आईओए के लिए चुनौतीपूर्ण

YJ

टोक्यो ओलंपिक खेलों को शुरू होने में अब 50 दिन से भी कम समय बचा है और भारतीय ओलंपिक संघ (आईओए) के लिए भारतीय एथलीटों के लिए नई स्पोटर्स किट की व्यवस्था करना चुनौतीपूर्ण काम दिख रहा है। आईओए ने तीन जून को मुख्य अतिथि खेल मंत्री किरण रिजिजू की उपस्थिति में औपचारिक रूप से टोक्यो ओलंपिक किट का अनावरण किया था। इस अवसर पर 23 जुलाई से 8 अगस्त तक होने वाले टोक्यो ओलंपिक खेलों के लिए 50 दिनों की उलटी गिनती भी हुई थी।

इसके छह दिन बाद ही भारत और चीन के बीच संबंधों में आई खटास को देखत हुए चीनी कंपनी, जोकि आईओए का प्रायोजक है, के लोगो को स्पोर्ट करने वाली स्पोर्ट्स किट एक विवादास्पद मुद्दा बन गया है।

एक सूत्र ने कहा, ” प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) से किसी ने चीनी कंपनी का लोगो से बचने के लिए इस मुद्दे को उठाया था।”

इसके बाद खेल मंत्रालय से जारी निर्देश के बाद आईओए ने तुरंत एक बयान जारी कहा कि फैंस की भावनाओं को ध्यान में रखते हुए भारतीय एथलीटों का किट चाइनीज कंपनी के लोगो के बिना ही होगा।

लेकिन अब आखिरी मिनट में किट में हुए बदलाव से नई किट को जल्दी से तैयार करने की चुनौती पैदा हो गई है।

राष्ट्रीय खेल महासंघ (एनएसएफ) के एक अधिकारी ने आईएएनएस से कहा, ” हम ओलंपिक के करीब संकट का अनुमान लगा रहे हैं क्योंकि कई एथलीटों को उचित खेल किट नहीं मिल सकती हैं। एथलेटिक्स और तैराकी जैसे कुछ विषयों में योग्यता की प्रक्रिया अभी भी जारी है।”

आईओए ने आठ जून को एक बयान में कहा, ” इस फैसले के लिए हम खेल मंत्रालय के मार्गदर्शन के लिए आभारी हैं। हम चाहेंगे कि हमारे एथलीट परिधान के बारे में सवालों के जवाब दिए बिना प्रशिक्षण और प्रतिस्पर्धा करने में सक्षम हों।”

पिछले साल अगस्त में, लद्दाख सीमा पर भारत और चीन के बीच गतिरोध के बाद 20 भारतीय सैनिक शहीद हो गए थे।

इसके बाद भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने जनता की भावनाओं को ध्यान में रखते हुए चीनी मोबाइल कंपनी वीवो को इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के टाइटल प्रायोजन से निलंबित कर दिया था। हालांकि, एक साल बाद, चीनी कंपनी अब 2021 टूर्नामेंट के लिए फिर से आईपीएल का टाइटल प्रायोजक बन गई है।

आईओए के एक अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर कहा, ” अगर चीनी मोबाइल कंपनी आईपीएल की टाइटल प्रायोजक हो सकती है तो अन्य विषयों को प्रायोजन क्यों नहीं मिल सकता है।”

– -आईएएनएस

Post a Comment

From around the web