गोलकीपरों का डिफेंडरों के साथ समन्वय बनाना जरूरी : Pathak

s

भारतीय हॉकी पुरुष टीम के गोलकीपर कृष्ण पाठक का कहना है कि गोलकीपरों का डिफेंडरों के साथ समन्वय बनाना जरूरी होता है। 24 वर्षीय पाठक जिन्होंने भारत के लिए 50 मुकाबले खेले हैं, उन्होंने कहा कि वह हमेशा डिफेंडरों के प्लान के साथ रहते हैं।

पाठक ने कहा, “मैदान पर भले ही एक गोलकीपर होता है लेकिन वह अकेला नहीं होता। मैं लगातार डिफेंडरों के साथ उनके प्लान के बारे में बात करता रहता हूं और यह सुनिश्चित करता हूं कि उनके साथ रहूं। अगर मैं डिफेंडर के साथ समन्वय स्थापित करूंगा तो हमारा डिफेंस लाइन मजबूत रहेगा।”

उन्होंने बताया कि आक्रमक रणनीति के अलावा टीम का ध्यान ट्रेनिंग सीजन में समन्वय स्थापित करने पर भी कंद्रित रहता है।

पाठक ने कहा, “टीम फिलहाल हाई इंटेंसिटी अभ्यास सत्र कर रही है। ओलंपिक अब बहुत ज्यादा दूर नहीं है और हम अभ्यास सत्र में हर संभव चीज करने की कोशिश कर रहे हैं।”

उन्होंने कहा, “पिछले कुछ वर्षो से हम एक टीम के रूप में अच्छा कर रहे हैं और हम ओलंपिक में ऐसा ही करना चाहते हैं। यह हमारे लिए बड़ी चुनौती है लेकिन हम इसके लिए तैयार हैं।”

पाठक ने कहा, “पिछले कुछ वर्षो में हमने शीर्ष टीमों के खिलाफ अच्छा किया है। हम लोगों ने अप्रैल में अर्जेटीना के खिलाफ एफआईएच प्रो लीग के मैच में बेहतर प्रदर्शन किया था।”

उन्होंने कहा, “हम टीम के रूप से अच्छे से आगे बढ़ रहे हैं और अब समय है कि हम सभी अपने कौशल को दिखाएं और अपनी क्षमता के अनुरूप अपना सर्वश्रेष्ठ दें। हमारा लक्ष्य ओलंपिक में पदक जीता है और हमें भरोसा है कि हम इसे जीतेंगे।”

–आईएएनएस

Post a Comment

From around the web