भारत के पूर्व क्रिकेटर यशपाल शर्मा का दिल का दौरा पड़ने से निधन

f

स्पोर्ट्स डेस्क, जयपुर।। रिपोर्ट्स के मुताबिक, भारत के पूर्व क्रिकेटर और 1983 विश्व कप विजेता टीम के सदस्य यशपाल शर्मा का दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया। यशपाल शर्मा 66 वर्ष के थे और उन्होंने 1979 से 1985 तक भारत का प्रतिनिधित्व किया। यशपाल शर्मा ने भारत के लिए 37 टेस्ट और 42 वनडे खेले, जिसमें उन्होंने क्रमश: 1606 और 883 रन बनाए। उन्होंने टेस्ट मैचों में दो शतक और एक दिवसीय प्रारूप में चार अर्धशतक बनाए।

यशपाल शर्मा उम्र और क्रिकेट आँकड़े
11 अगस्त, 1954 को पंजाब के लुधियाना में जन्मे यशपाल शर्मा का प्रथम श्रेणी करियर प्रभावशाली रहा। उन्होंने 160 मैच खेले जिसमें उन्होंने 44.88 की औसत से 21 शतकों के साथ 8933 रन बनाए। यशपाल शर्मा का सबसे बेहतरीन पल 1983 विश्व कप में आया, जब उन्होंने इंग्लैंड में भारत की ऐतिहासिक जीत में अहम भूमिका निभाई। वह मैनचेस्टर में वेस्टइंडीज के खिलाफ लीग संघर्ष में 89 रनों की शानदार पारी के लिए मैन ऑफ द मैच थे। भारत ने मैच में 8 विकेट पर 262 रन बनाए और खेल को 34 रन से जीत लिया क्योंकि विंडीज को 228 रन पर आउट कर दिया गया था। इस जीत ने विश्व कप में भारत के लिए टोन सेट किया।

मध्य क्रम के बल्लेबाज ने चेम्सफोर्ड में ऑस्ट्रेलिया पर 118 रनों की शानदार जीत में 40 रनों का योगदान दिया। यशपाल शर्मा ने भी 61 रनों के साथ शीर्ष स्कोर किया क्योंकि भारत ने 1983 विश्व कप के सेमीफाइनल में मैनचेस्टर में इंग्लैंड के खिलाफ 214 रनों का पीछा किया था। वह वेस्ट इंडीज के खिलाफ फाइनल में 11 रन पर आउट हो गए थे, लेकिन भारत ने लॉर्ड्स में 43 रन की जीत के बाद विश्व कप जीतकर एक प्रसिद्ध जीत दर्ज की। यशपाल शर्मा ने अपना आखिरी वनडे इंग्लैंड के खिलाफ 1985 में चंडीगढ़ में खेला था। उनका आखिरी टेस्ट वेस्टइंडीज के खिलाफ 1983 में दिल्ली में था। उनका 140 का उच्चतम टेस्ट स्कोर 1982 में चेन्नई में इंग्लैंड के खिलाफ दर्ज किया गया था। यशपाल शर्मा ने इस टेस्ट के दौरान गुंडप्पा विश्वनाथ के साथ 316 रनों की विशाल साझेदारी की।

ट्विटर पर यशपाल शर्मा को श्रद्धांजलि
यशपाल शर्मा के निधन की खबर आते ही ट्विटर के लोग सदमे में थे। कई प्रशंसकों ने 1983 विश्व कप के नायक को श्रद्धांजलि दी।

Post a Comment

From around the web