भारतीय टीम के इस खिलाड़ी का खत्म हो गया क्रिकेट करियर? अब नामुनकिन टीम में वापसी करना

भारतीय टीम के इस खिलाड़ी का खत्म हो गया क्रिकेट करियर? अब नामुनकिन टीम में वापसी करना

क्रिकेट न्यूज डेस्क, जयपुर।।  भारतीए टीम में एक समय के दिग्गज खिलाड़ियों में शामिल होने वाले कुलदीप यादव को वर्ल्ड कप में शामिल नही किया गया। और हाल ही में खेले जा रहे, न्यूजीलैंड के खिलाफ घरेलू सीरीज में भी कुलदीप को अनदेखा किया गया। दोस्तों आइए जानते है, इस पूरी खबर के बारे में।

दरअसल दोस्तो चाइनामैन बॉलर के नाम से मशहूर खिलाड़ी कुलदीप यादव एक समय में भारतीय टीम के दिग्गज खिलाड़ियों में शामिल हुआ करते थे। लेकिन अब उनकी गेंदबाजी में वो दम देखने को नहीं मिलता जो उनके पहले के मैचों में हमे देखने को मिला। जिसके दौरान अब आलम ये है, की उन्हे टीम इंडिया से बाहर कर दिया गया है।

ना तो उन्हे वर्ल्ड कप में शामिल किया गया, और न ही न्यूजीलैंड के खिलाफ टी20 सीरीज की टीम में शामिल किया। दरअसल दोस्तों इतने तेज़ गेंदबाज कुलदीप की मुश्किलें तब बढ़ी, जब एमएस धोनी जैसे महान खिलाड़ी ने इंटरनेशनल क्रिकेट से सन्यास ले लिया।

उसके बाद से ही कुलदीप के प्रदर्शन में कमी होना शुरू हो गई। बता दे, की कुलदीप ने भारतीय टीम के लिए एक समय 23 टी20 मैचों के 14.21 की औसत से 7.15 के इकोनॉमी रेट से 41 विकेट अपने नाम किए। और उनका सबसे अच्छा गेंदबाजी फिगर 5/24 का था। जो उन्होंने इंग्लैंड के खिलाफ मैनचेस्टर में 2018 में अपने नाम किया था। बताते चले, की कुलदीप के अंदर गेंदबाजी करने की बहुत सारी कलाए है।

जिनमे से एक कला को चाइनामैन बोलिंग भी कहते है। और इसलिए कुलदीप यादव को चाइनामैन बॉलर के नाम से भी कई लोग जानते है। बता दे, की ये एक बहुत ही खास गेंदबाजी की कला है। जिसमे बाएं हाथ के गेंदबाज बॉल को अपनी उंगलियों में फसाकर अपनी कलाई का उपयोग करके बॉल को स्पिन करता है।

और इस बॉल को खेल पाना काफी मुश्किल होता है। कुलदीप यादव की ये काला भारतीय टीम में धोनी के रहते बहुत आगे तक बढ़ी। लेकिन जैसे ही एमएस धोनी ने इंटरनेशनल क्रिकेट से सन्यास लिया, वैसे ही कुलदीप का करियर लगातार उनके हाथो से फिसलता गया।

 इसी बात पर चर्चा करते हुए, एक इंटरव्यू में कुलदीप यादव के कहा, की जब धोनी ने सन्यास लिया था, तब कैसे वह धोनी की सिखाई हुई बात को मैदान में खड़े होकर याद करते थे। और विकेटकीपर धोनी उन्हे विकेट के पीछे मौजूद रहकर सलाह दिया करते थे। और उसकी कमी बहुत याद आती है।

आगे कुलदीप ने बताया, की मुझे कभी कभी उनकी दी हुई सीख बहुत याद आती है, वह विकेट के पीछे खड़े रहकर भी हमे अपने तरीके से गाइड किया करते थे। और इसी दौरान टीम इंडिया के पूर्व ओपनर आकाश चौपड़ा से बातचीत के दौरान कुलदीप यादव ने टीम के प्रबंधन के बारे के बात करते हुए बताया, की मुझे ये समझ नही आता की टीम आखिर मुझे क्या चाहती है।

और अगर सिर्फ दो महीने के प्रदर्शन के आधार पर वर्ल्ड कप की टीम को चुना जाएगा, तो एक खिलाड़ी के रूप में समझ पाना मुश्किल हो जायेगा। जब भी भारतीय टीम का कोई मैच होने वाला होता है, और वह किसी खिलाड़ी को टीम में शामिल नही करते तो खिलाड़ियों को बताया जाता है, की उन्हे टीम में शामिल क्यों नही किया गया, लेकिन यह नियम आईपीएल में नहीं चलता।

इसी दौरान कुलदीप ने बताया, की केकेआर टीम में मुझे लगातार अनदेखा किया जा रहा है। और इतना ही नहीं आईपीएल के बहुत से मैचों में कुलदीप को बाहर भी बैठना पड़ा। और केकेआर ने कुलदीप से ज्यादा वरुण चक्रवती को टीम में शामिल करना सही समझा। कुलदीप में आगे बताया, की जब संवाद कमजोर होता है, तो इसे समझना भी काफी मुश्किल हो जाता है।

और बहुत बार तो आपको ये भी लगने लगता है, की आप टीम में शामिल हो भी या नहीं, आप टीम को तरफ से खेल रहे हो या नहीं या टीम आपसे क्या चाहती है? बताते चले, की कुलदीप यादव की वजह से अनिल कुंबले और विराट कोहली के बीच में एक बार झगड़ा भी हो चुका है। दरअसल ऑस्ट्रेलिया में भारत दौरे के बीच विराट और अनिल कुंबले के बीच बहस छिड़ गई थी।

असल में अनिल कुंबले उस समय सीरीज के तीसरे मैच में कुलदीप यादव को टीम में रखने के पक्ष में थे, लेकिन अनिल की इस बात से विराट ने सीधे सीधे इनकार कर दिया था। और यह हादसा धर्मशाला टेस्ट के बीच हुआ था। धर्मशाला टेस्ट के दौरान विराट को चोट लगने के कारण इस मैच में शामिल नही किया गया था, जिसके चलते कप्तानी अंजिक्य रहाणे को सौंप दी गई थी। और इस मैच में कुलदीप यादव को भी मौका दिया गया था।

लेकिन विराट इसके खिलाफ थे, क्योंकि वह मैच में अमित मिश्रा को शामिल करना चाहते थे। और जब विराट, कुलदीप को खिलाने के लिए नही माने, तब विराट से बिना कुछ बताए कुलदीप को टीम के शामिल कर लिया गया। और उस समय खबरे ये भी सुनने में आई थी, की विराट भारत के पूर्व कप्तान एमएस धोनी के ग्रेड ए में शामिल होने से भी काफी नाराज़ थे। बता दे, की कुलदीप ने अपने करियर में 23 टी20 मैचों में 41 विकेट अपने नाम किए है। और उन्होंने उस दौरान आईपीएल के 45 मुकाबलों में भी अपना प्रदर्शन दिखाया, जिसमे कुलदीप 40 विकेट के मालिक है।

और इसी तरह कुलदीप यादव का वनडे कैरियर भी लाजवाब साबित हुआ। जिसमे उन्होंने 65 वनडे मैचों में ताबड़तोड़ 107 विकेट अपने खाते में जमा किए। और अगर कुलदीप के इन आंकड़ों को देखा जाए, तो उनके करियर का पता लगाया जा सकता है। टी20 मैचों में कुलदीप का इकोनॉमी रेट 8 से कम है। कुलदीप के यह पुराने कुछ रिकॉर्ड जो की कुलदीप के बारे में सब कुछ जाहिर करते है। लेकिन अब कुलदीप का कैरियर खत्म होने कगार पर हैं।

Post a Comment

From around the web