5 क्रिकेट खिलाड़ी जिन्होंने गेंदबाजी और बल्लेबाजी दोनों में ओपनिंग की, जिन्होंने अपनी दोहरी प्रतिभा से रचा इतिहास

5 क्रिकेट खिलाड़ी जिन्होंने गेंदबाजी और बल्लेबाजी दोनों में ओपनिंग की, जिन्होंने अपनी दोहरी प्रतिभा से रचा इतिहास

क्रिकेट न्यूज डेस्क।।  क्रिकेट के इतिहास में आपने कई अजीबोगरीब घटनाएं देखी होंगी। लेकिन, आपने शायद ही सुना होगा कि कोई क्रिकेटर ऐसा होता है जो पहले बल्लेबाजी करता है और पहला ओवर भी फेंकता है। लेकिन, कुछ खिलाड़ी ऐसे भी हैं जो इस तरह के ऐतिहासिक मौके का हिस्सा रहे हैं और उन्होंने ऐसा किया है। अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में कई खिलाड़ियों ने अपने टैलेंट से लोगों को हैरान किया है. इस खास रिपोर्ट के जरिए हम आपको उन 5 खिलाड़ियों के बारे में बताने जा रहे हैं जिन्होंने अपनी टीम के लिए डबल टैलेंट से फैंस को प्रभावित किया।

1. मोहम्मद हफीजी

Mohammad Hafeez
लिस्ट में पहला बड़ा नाम पाकिस्तान क्रिकेट टीम के ऑलराउंडर मोहम्मद हफीज का है, जिन्होंने अपनी टीम के लिए दमदार खेल दिखाया और बल्ले और गेंद दोनों से खास योगदान दिया. वह क्रिकेट के तीनों प्रारूपों में हमेशा शीर्ष खिलाड़ियों में से एक रहे हैं। डबल टैलेंट दिखाने वाले खिलाड़ियों में हफीज का भी नाम है। हफीज ने एक बार नहीं बल्कि कई बार टेस्ट और वनडे में अपनी टीम के लिए ओपनिंग बल्लेबाजी की और फिर गेंद से शुरुआत की। स्पिन गेंदबाज होने के नाते अक्सर ऐसा होता था जब उन्हें पहला ओवर करने का मौका मिलता था। गेंद के अलावा उन्होंने बल्ले से भी कहर बरपाया और कई ओपनिंग की. हफीज ने अपने करियर में पाकिस्तान के लिए 55 टेस्ट, 218 वनडे और 119 टी20 मैच खेले हैं।

2. तिलकरत्ने दिलशान:

Tillakaratne Dilshan

इस सूची में श्रीलंकाई बल्लेबाज तिलकरत्ने दिलशान भी शामिल हैं, जिन्होंने तीनों प्रारूपों में लंबे समय तक अपनी टीम की सेवा की है। आपको यह भी याद होगा कि उन्होंने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में तीनों प्रारूपों में अपनी टीम के लिए सलामी बल्लेबाज की भूमिका लंबे समय से निभाई है। दिलचस्प बात यह है कि दिलशान स्पिनरों की सूची में थे और उन्हें पारी का पहला ओवर फेंकने का भी मौका मिला। 2012 की सीबी सीरीज भी आपके दिमाग में होगी। यहां दूसरे फाइनल मैच में दिलशान ने ओपनिंग में बल्लेबाजी करने के बजाय शतक जड़ा। उन्होंने पारी का पहला ओवर भी फेंका। दिलशान ने मैच के सभी 10 ओवर फेंके और एक विकेट भी लिया।

3. मनोज प्रभाकरी

Manoj Prabhakar

पूर्व भारतीय क्रिकेटर मनोज प्रभाकर से बहुत कम लोग परिचित होंगे। लेकिन प्रभाकर ने भी अपनी दोहरी प्रतिभा की छाप छोड़ी है। उन्होंने गेंदबाजी और बल्लेबाजी दोनों से प्रशंसकों का ध्यान खींचा। यह अलग बात है कि उनका क्रिकेट करियर ज्यादा लंबा नहीं चला, लेकिन एक ऑलराउंडर के रूप में प्रभाकर ने अक्सर टीम इंडिया को जीत दिलाई। प्रभाकर ने कई बार भारत के लिए ओपनिंग बैटिंग और बॉलिंग भी की। उन्होंने टीम इंडिया के लिए 39 टेस्ट और 130 वनडे खेले। खास बात यह थी कि बतौर ओपनर उनका बल्लेबाजी औसत शानदार था।

4. नील जॉनसन

Neil Johnson
जिम्बाब्वे क्रिकेट को नई ऊंचाइयों पर ले जाने में अहम भूमिका निभाने वाले महान क्रिकेटर नील जॉनसन को कौन भूल सकता है. इस टीम को ऊंचाइयों तक ले जाने में सबसे बड़ा योगदान किसी भी खिलाड़ी का होता है, वह नील जॉनसन का होना चाहिए। जिन्होंने अपने देश के लिए खेलते हुए एक अलग छाप छोड़ी। जोंस ने जिम्बाब्वे के लिए खेलते हुए अक्सर सलामी बल्लेबाज के साथ-साथ गेंदबाजी सलामी बल्लेबाज की भूमिका निभाई है। यह 1999 का विश्व कप था जब जोन्स ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ शुरुआती ओवर में 132 रन बनाकर सभी को चौंका दिया था। इतना ही नहीं, उन्होंने इस मैच में पहली गेंदबाजी से 2 विकेट भी अधिक लिए

5. मी. एल जयसिंह (एमएल जयसिंह)

M. L. Jaisimha
टीम इंडिया के पूर्व ऑलराउंडर एमएल जयसिम्हा इस सूची में पांचवें और अंतिम स्थान पर हैं। उन्होंने भारत के लिए क्रिकेट में महत्वपूर्ण योगदान दिया है। उन्होंने टेस्ट मैचों में कई बार टीम इंडिया के लिए ओपनिंग की और अपने प्रदर्शन से प्रशंसकों को चौंका दिया। उन्होंने कुल 14 टेस्ट मैचों में भारत के लिए सलामी बल्लेबाज की भूमिका निभाते हुए पहले ओवर में भी गेंदबाजी की। जयसिंह 1960 के दशक में क्रिकेट की दुनिया में एक बड़ा नाम था। यहीं से क्रिकेट के नए युग की शुरुआत हुई। जयसिंह हमेशा से ही अपनी क्लास के लिए जाने जाते रहे हैं। फैंस को उनके स्टाइल पर भरोसा था।

Post a Comment

From around the web